Pandit Birju Maharaj बॉलीवुड इंडस्ट्री के कथक नृत्यकार थे। पंडित बिरजू महाराज का निधन 16 जनवरी 2022 को 83 वर्ष की आयु में हो गया था।

मौत का कारण क्या था?

पंडित बिरजू महाराज की म्रत्यु का कारण उनकी हालत नाजुक बताई गई थी, उन्होंने अपनी अंतिम साँस दिल्ली के साकेत हॉस्पिटल में ली थी.

फैंस ने दी थी, श्रद्धांजलि

पंडित बिरजू महाराज की खबर जैसे ही सोशल मीडिया में शेयर हुई थी, तो उनके फैंस को काफी दुख हुआ था। उनकी खबर को पाते ही हमारे देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट में उनकी आत्मा की शांति के लिए

राजनाथ सिंह ने लिखा था। ‘पंडित बिरजू जी महाराज भारत की कला और संस्कृति के प्रवर्तक थे। उन्होंने कथक नृत्य के लखनऊ घराने को दुनिया भर में लोकप्रिय बनाया।

उनके निधन से गहरा दुख हुआ है। उनका निधन कला जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना’

आज इस आर्टिकल में हम Pandit Birju Maharaj Biography in Hindi, Pandit Birju Maharaj Age, Pandit Birju Maharaj Death, Pandit Birju Maharaj Wife, Pandit Birju Maharaj Family, Pandit Birju Maharaj Wiki & more के बारे में पढेगे.

इसे भी पढ़े: Bappi Lahiri Biography in Hindi, Death, Age, Wife, Family, Wiki & more

कौन थे पंडित बिरजू महाराज?

नामपंडित बिरजू महाराज
प्रसिद्ध हैकथक नृत्यकार
जन्म4 जनवरी 1938, लखनऊ उत्तर प्रदेश, भारत में
मृत्यु16 जनवरी 2022, दिल्ली भारत में
पिता का नामजगन्नाथ महाराज
माता का नामअम्मा जी महाराज

पंडित बिरजू महाराज कथक नृत्य के मशहूर नृत्यकार थे। पंडित बिरजू महाराज का जन्म लखनऊ के कालका-बिंदादीन घराने में 4 जनवरी 1938 को एक हिंदू ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम जगन्नाथ महाराज था। जो एक कथक नृतकार थे।

इनके पिता को कथक के अच्छन महाराज कहा जाता था। जब पंडित बिरजू महाराज 9 वर्ष के थे तो इनके पिता की मृत्यु हो गई थी। उनकी माता का नाम अम्मा जी महाराज था। पंडित बिरजू महाराज की मृत्यु 16 जनवरी 2022 को दिल्ली के साकेत हॉस्पिटल में हो गई थी।

पंडित बिरजू महाराज ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने पिता से कथक नृत्य में बचपन से ही लेनी प्रारंभ कर दी थी। पिता की मृत्यु के बाद अपने चाचा लच्छू महाराज और शंभु महाराज से शिक्षा लेनी प्रारंभ कर दी। पंडित बिरजू महाराज मात्र 23 वर्ष की ही आयु में ही एक यशश्वी कथक नृत्य के महान कलाकार बन गए थे।

पंडित बिरजू महाराज की हाईट, वजन और राष्ट्रीयता के बारे में

हाईट1.70 मीटर
वजनलगभग 70 किलो
आंखो का रंगकाला
बालो का रंगसफेद
राष्ट्रीयताभारतीय

पंडित बिरजू महाराज लखनऊ के कालका-बिंदादीन घराने से थे। पंडित बिरजू महाराज की हाईट 1.70 मीटर थी। ओर वजन लगभग 70 किलोग्राम था। इनकी आंखों का रंग काला और बालो का रंग सफेद था।

इसे भी पढ़े: Lata Mangeshkar Death, Age, Husband, Family, Wiki, Biography in Hindi & more

पंडित बिरजू महाराज की पत्नी और बच्चो के बारे में

पंडित बिरजू महाराज पांच बच्चो के पिता थे। उनकी तीन बेटियां और दो लड़के है। उनकी तीन बेटियों के नाम कविता महाराज, अनीता महाराज और ममता महाराज है। ओर उनके दो बेटो का नाम जयकिशन महाराज और दीपक महाराज है। उनकी पत्नी के बारे में ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है।

पंडित बिरजू महाराज के करियर के बारे में

पंडित बिरजू महाराज ने अपने करियर की शुरुआत मात्र 23 वर्ष की आयु में ही कर दी थी। उन्होंने अपनी शिक्षा में भरपूर ज्ञान प्राप्त करने के बाद दिल्ली के संगीत भारतीय में नृत्य की शिक्षा देना प्रारंभ कर दिया था।

इन्होंने धीरे धीरे शिक्षा संस्थानों को बदला। दिल्ली के संगीत भारतीय से निकलकर भारतीय कला केंद्र में शिक्षा देना प्रारंभ कर दी। कुछ समय नृत्य सीखने के बाद इन्होंने दिल्ली के कथक केंद्र में बहुत से विद्यार्थियों को नृत्य कला में सम्पन्न बनाया।

उसके बाद इन्होंने अपना खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहा। ओर कुछ समय बाद इन्होंने दिल्ली ‘कलाश्रम’ नाम से खुद की नृत्य संस्था खोल दी थी।

इनकी प्रतिभा को देखते हुए इन्हे 28 वर्ष की आयु में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया था।

फिल्मों में अपने अनुभव से लोगो को प्रभावित किया

पंडित बिरजू महाराज की प्रतिभा बॉलीवुड तक पहुंच गई थी। उनके बेहतरीन कथक डांस से बॉलीवुड इंडस्ट्री प्रभावित हो गई थी। जिसके चलते बॉलीवुड इंडस्ट्री में इन्होंने शतरंज के खिलाड़ी, देवदास, डेढ़ इश्किया, उमराव जान, बाजी राव मस्तानी, दिल तो पागल है, गदर एक प्रेम कथा जैसी हिट फिल्मों में अपने गायन और अपने नृत्य से इन फिल्मों में अपनी छाप छोड़ दी है।

पंडित बिरजू महाराज को दिए गए पुरस्कार के बारे में

बिरजू महाराज ने अपने बेहतरीन परफॉर्मेंस और बेहतरीन कथक नृत्य से कई पुरस्कार अपने नाम किए है। पंडित बिरजू महाराज की 1986 में पदम विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उसके बाद इन्हे संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, कालिदास सम्मान, लता मंगेशकर सम्मान, सोवियत लैंड नेहरू अवार्ड, संगम कला पुरस्कार, फिल्मफेयर पुरस्कार और भी कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था। पंडित बिरजू महाराज को खैरागढ़ विश्वविद्यालय’ से ‘डॉक्टरेटर’ की उपाधि मिली थी।

इसे भी पढ़े: Mother Teresa Biography in Hindi, Age, Death, Family, Early Life, Husband & More

About FAQ

Q. Pandit Birju Maharaj wife?

Ans. Not much information is available about Pandit Birju Maharaj’s wife.

Q. Pandit Birju Maharaj age?

Ans. Pandit Birju Maharaj’s age was 83 years as of 2022.

Q. Pandit Birju Maharaj Death?

Ans. Pandit Birju Maharaj died on 16 January 2022 in Delhi.

Q. Pandit Birju Maharaj is famous for?

Ans. Pandit Birju Maharaj is famous for his excellent Kathak dance.

Q. Pandit Birju Maharaj ke guru kaun the?

Ans. His father was the first Guru of Pandit Birju Maharaj.

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है. आप सभी विजिटर को Pandit Birju Maharaj के बारे में पूरी जानकारी मिल ही गई होगी. यदि आप लोगो को कोई डाउट है. तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है. यदि आप लोगो को यह लेख अच्छा लगा है. तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Note : यह जानकारी विभिन्न वेबसाईट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गहराई से रिसर्च करके एकत्रित की गई है। यदि इस जानकारी में किसी भी प्रकार की त्रुटि पाई जाती है. तो इसके लिए bioknowledge.net की कोई भी जिम्मेदारी नहीं है.

VISIT WEBSITE
Rate this post

Earth Edition

Hello friends, This is Earth Edition Team. And we are professional content writers. We hope you guys liked this article. We have tried our best to give you complete information. If you still have any problems,...

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *