Sachin Tendulkar को क्रिकेट का भगवान कहा जाता है| Sachin Tendulkar ने हाईस्कूल फेल होने के बाद भी पढ़ाई पर फोकस न करके। क्रिकेट पर फोकस किया। क्युकी इनको पता था। की में क्रिकेट में कुछ बड़ा कर सकता हु। और इन्होंने यह सिद्ध भी कर दिया कि जरूरी नहीं है बड़ा बनने के लिए पढ़ा लिखा होना चाहिए। बस जुनून और होशला होना चाहिए। प्रोफेशन होना चाहिए। कुछ करने का।

आज वही मुंबई सरकार ने मुंबई की हाईस्कूल की बुक में पहला चैप्टर ही सचिन तेंदुलकर का छपवाया है। इसे कहते है जुनून। सचिन ने ही भारतीय क्रिकेट को एक नई ऊंचाई दी थी। आज Sachin Tendulkar के नाम पर इतने रिकॉर्ड है। कि इनके रिकॉर्ड पर हम पूरी बुक लिख सकते है। तो आइए जानते है। God of Cricket सचिन तेंदुलकर के बारे में।

आज इस आर्टिकल में हम Sachin Tendulkar Biography in Hindi, Sachin Tendulkar Height, Sachin Tendulkar Weight, Sachin Tendulkar Date of Birth, Sachin Tendulkar Age, Sachin Tendulkar Girlfriend, Sachin Tendulkar Wife, Sachin Tendulkar Family, Sachin Tendulkar Net Worth, Sachin Tendulkar Contact Detail & More के बारे में पढ़ेंगे।

सचिन तेंदुलकर का जन्म, जन्मस्थान, माता-पिता और फैमिली के बारे में

नामसचिन तेंदुलकर
जन्म24 अप्रैल 1973, मुंबई
उम्र 2022 के अनुसार49 वर्ष
पिता का नामरमेश तेंदुलकर
माता का नामरजनी तेंदुलकर
पढ़ाईहाई स्कूल फेल
नेट वर्थ1110 करोड़

Sachin Tendulkar का जन्म 24 अप्रैल 1973 को राजापुर मुंबई के मिडिल क्लास मराठी हिंदू फैमिली में हुआ था। उनके पिता का नाम रमेश तेंदुलकर था। जो एक लेखक और प्रोफेसर थे। और उनकी मां का नाम रजनी तेंदुलकर था। जो एक इंसॉरेंस कंपनी में काम करती थी। सचिन तेंदुलकर अपने पिता की दूसरी पत्नी के पुत्र थे।

Sachin Tendulkar को आज हम लोग लिटल मास्टर, मास्टर ब्लास्टर, सचिन, तेंदल्या, क्रिकेट के भगवान नाम से जानते है। सचिन तेंदुलकर के तीन बड़े भाई थे जोकि उनके पिता की पहली पत्नी के पुत्र थे। Sachin Tendulkar का नाम उनके पिता ने अपने प्रिय संगीतकार सचिन देव बर्मन के नाम पर रखा था।

इसे भी पढ़े : Maharana Pratap, Maharana Pratap jayanti, Maharana Pratap height, bharat ka veer putra Maharana Pratap & More

सचिन तेंदुलकर की हाईट, वजन, राष्ट्रीयता और धर्म के बारे में

राष्ट्रीयताभारतीय
हाईट1.65 मीटर
वजनलगभग 75 किलो
धर्महिंदू
आंखो का रंगकाला
बालो का रंगकाला

Sachin Tendulkar की हाईट 1.65 मीटर है। और उनका वजन लगभग 75 किलोग्राम है। Sachin Tendulkar एक भारतीय पुरुष है। जो हिंदू धर्म से संबंधित है। इनकी आंखों का रंग काला और बालो का रंग काला है।

सचिन तेंदुलकर की पत्नी, बच्चे, गर्लफ्रेंड के बारे में

पत्नी अंजली तेंदुलकर
बच्चेअर्जुन तेंदुलकर और सारा तेंदुलकर
गर्लफ्रेंडN/A

Sachin Tendulkar ने 1995 में अंजली तेंदुलकर से विवाह किया था। जो सचिन से 6 साल बड़ी है। Sachin Tendulkar की लव स्टोरी एक एयरपोर्ट से शुरु होती है। जब सचिन 1990 में इंग्लैंड दौरे से वापस आ रहे थे। तो एयरपोर्ट पर अंजली भी मोजूद थी। अंजली ने जब सचिन को पहली बार देखा तो वह उनकी दीवानी हो गई थी। और उनसे मिलने के लिए वह उनके पास गई।

लेकिन Sachin Tendulkar रियल लाइफ में बहुत ही शर्मीले इंसान है। उन्होंने अंजली को अपनी ओर आते देख वह अपनी गाड़ी में बैठकर चले गए। लेकिन अंजली उनसे पहली ही नजर में प्यार करने लगी थी। अंजली ने अपने दोस्तो की मदद से सचिन तेंदुलकर का नंबर लिया उनसे बात की ओर उनसे मुलाकात की ऐसे ही इनकी यह लव स्टोरी 5 साल तक चलती रही।

लेकिन Sachin Tendulkar अपनी मां से अंजली के बारे में बात करने से डरते थे। 1994 में सचिन ने न्यूजीलैंड में अंजली से सगाई कर ली थी। यह बात उन्होंने अपने घर वालो को नहीं बताई थी। तो एक बार अंजली न्यूज रिपोर्टर बनकर सचिन के घर पहुंच गई। लेकिन उनकी मां ने उन्हें पहचान लिया और फिर अंजली ने खुद ही अपने और सचिन की शादी की बात उनकी मां से की ओर उनकी मां मान गई।

इसे भी पढ़े : Louis Braille Story in hindi, Louis Braille day, Who was Louis Braille

और मई 1995 में यह दोनो विवाह बंधन में बंध गए। और आज इनके दो बच्चे है। सारा तेंदुलकर जिनका जन्म 12 अक्टूबर 1997 को हुआ था। और एक लड़का अर्जुन तेंदुलकर है। जिनका जन्म 24 सितंबर 1999 को हुआ था। अंजलि ने अक्सर अपने पति सचिन तेंदुलकर के लक्ष्य और उनके सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने सपनो का हमेशा त्याग किया है। यह बात खुद सचिन तेंदुलकर ने कही थी।

क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के करियर के बारे में

सचिन को क्रिकेट का शौक बचपन से ही था। इसी शौक को देखते हुए उनके बड़े भाई ने उन्हें क्रिकेट ज्वाइन कराने के लिए 1984 में रामकांत आचरेकर जो उस समय के अच्छे कोच माने जाते थे उनके पास ले गए। लेकिन सचिन उनके सामने सही नही खेल पाए। जिस वजह से रमाकांत आचरेकर ने उन्हें एडमिशन देने से मना कर दिया।

लेकिन सचिन के बड़े भाई की रिक्वेस्ट पर रमाकांत आचरेकर ने छुपकर सचिन का मैच देखा। और सचिन बहुत अच्छा खेल रहे थे। तो वह समझ गए की यह हमारे सामने खेलने से शायद अनकंफर्टेवल महसूस कर रहा था। फिर रामाकांत आचरेकर उन्हे क्रिकेट सिखाने के लिए हां कह दिया।

और जब सचिन क्रिकेट खेलते थे। तो उनके कोच उनके विकेट पर 1 रुपए का सिक्का रख देते थे, और कहते थे, जिसने सचिन को आउट कर दिया वह इस 1 रुपए को ले जायेगा। लेकिन अगर कोई सचिन को आउट नहीं कर पाया तो यह 1 रुपए सचिन का हो जायेगा। सचिन बताते है उनके पास आज 13 सिक्के है। और वह इन्हे अपनी जिंदगी का सबसे बड़ा रिवार्ड मानते है।

एक बार यह क्रिकेट खेलते समय  क्रिकेट की ट्राफी नहीं जीत पाए थे जिससे इनका मन काफी दुखी हुआ था, और इनको दुखी देखकर सुनील गावस्कर ने अपने पैड की जोड़ी को सचिन को दे दिया था। जिससे इनका मनोबल काफी बड़ा था। यह बात सचिन तेंदुलकर ने 20 साल बाद बताई थी, जब उन्होंने सुनील गावस्कर के 34 सतक को पीछे छोड़ते हुए उनके इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया था।

क्रिकेट के कोच रमाकांत आचरेकर के कहने पर इन्हें मुंबई के दादर की श्रद्धाआसरम विद्या मंदिर में दाखिला दिलवाया गया। यह सुबह वहा पढ़ाई करते थे, और शाम को शिवाजी पार्क में क्रिकेट की प्रैक्टिस करते थे। आगे की पढ़ाई के लिए, ये मुंबई के खालसा कॉलेज गए। लेकिन उनका मन पढ़ाई में नहीं लगता था। इसलिए इन्होने अपनी पढाई को बीच में ही छोड़ दिया। और क्रिकेट को ही अपना मुकाम बनाया।

सचिन कभी बॉलर बनना चाहते थे, इसलिए 1987 में 14 साल की उम्र में ये मद्रास के MRF Pace Foundation गए। जहा पर ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज डेनिस लिली बॉलिंग सिखाते थे। सचिन ने उनसे कहा मुझे बॉलिंग सीखनी है। लेकिन डेनिस लिली जानते थे कि सचिन बैटिंग सही करता है, इसलिए उन्होंने सचिन को बॉलिंग पर नहीं बैटिंग पर फोकस करने के लिए कहा। और सचिन ने उनकी बात मान ली और पूरा फोकस बैटिंग पर लगाया। और दिन रात क्रिकेट की प्रैक्टिस में लग गए।

इनकी करियर की शुरुआत 11 दिसंबर 1988 को 16 साल की उम्र में मुंबई से गुजरात के खिलाफ मैच खेलने से हुई थी। और इन्होंने इस मैच में शतक लगाया था। और यह शतक लगाने के बाद यह बहुत कम उम्र में शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए थे। और लोग इनके खेल से काफी प्रसन्न हुए।

ऐसे ही यह खेलते रहे दिन रात प्रैक्टिस करते रहे। और 1988-89 में यह मुंबई में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बन चुके थे। लोग इनकी तरफ काफी अट्रैक्टिव होने लगे थे। क्युकी इतनी छोटी सी उम्र का लड़का आज सारे रिकॉर्ड तोड़ दे रहा है। चाहे वह दिल्ली के खिलाफ खेलकर इंरानी ट्राफी में खेलकर शतक लगाना या रणजी, दिलीप, और ईरानी ट्राफी में पहला ही मैच खेलकर पहले ही मैच में पहला पहला शतक लगाया था।

16 साल की उम्र में इन्हे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट सलेक्शन बोर्ड ने टेस्ट मैच खेलने के लिए सेलेक्ट किया गया। और नवंबर 1989 करांची में पाकिस्तान के खिलाफ पहला टेस्ट मैच इन्होंने खेला। जिसमे कराची के खिलाफ पहले मैच में इन्होंने नाबाद 15 रन बनाए थे। और इसी मैच के दौरान सचिन की नाक पर बॉल लग गई थी। जिससे उनकी नाक से खून बहने लगा था। और फिर सभी ने सचिन से कहा की अब तुम रेस्ट करो। लेकिन सचिन तेंदुलकर बोले में खेलूंगा। और इस मैच में उन्होंने 54 रन की नाबाद पारी खेलते हुए अपना अर्धशतक पूरा किया।

1998 में इन्होने कप्तानी छोड़ दी, क्युकी यह मैच में काफी अच्छा प्रदर्शन न दिखा पाए थे, लेकिन 1999 में ये दोबारा कप्तान बनाए गए , लेकिन इनकी कप्तानी टीम को रास नही आई क्युकी इन्होने 25 टेस्ट मैच में से केवल 4 ही टेस्ट मैच जीत पाए थे। और फिर इन्होने कप्तान का पद त्याग ही दिया था। और दोबारा फिर कभी कप्तान नही बनने का फैसला लिया।

सचिन ने अपना पहला घरेलू टेस्ट मैच इंग्लैंड के खिलाफ भारत में खेला था। यह 22वा टेस्ट मैच था। सचिन तेंदुलकर ने ऑस्ट्रेलिया अफ्रीका टेस्ट प्रदर्शन में कई टेस्ट मैच में शतक लगाए। लेकिन एकदिवसीय मैच में इन्हे शतक लगाने के लिए 79 मैचों का इंतजार करना पड़ा।

आज इनके नाम पर कई रिकॉर्ड है। जिन्हे तोड़ना बहुत ही मुश्किल है। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर में इनके नाम पर 100 शतक का विश्व रिकॉर्ड है। इनके रिकॉर्ड है, 51 शतक टेस्ट क्रिकेट में इन्होंने बनाए और 49 शतक वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में बनाए। सचिन तेंदुलकर एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय इतिहास में दोहरा शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बने साथ ही सबसे ज्यादा वनडे इंटरनेशनल खेलने वाले खिलाड़ी बने। इन्होंने 463 वनडे खेले।

सचिन के उपर एक मूवी भी बन चुकी है, जिसका नाम  Sachin: A Billion Dreams है।

सचिन की ऑटोबायोग्राफी का नाम Playing the Way हैं।

सचिन की एक किताब का नाम Achieving Your Dreams है।

इसे भी पढ़े : Marie Curie, Marie Curie Death, Marie Curie Nobel Prize , How did Marie Curie Die & More

सचिन तेंदुलकर को दिए गए पुरस्कार

भारत रत्न2014
विजडन क्रिकेटर्स ऑफ द ईयर1997
पद्म विभूषण2008
राजीव गांधी खेल रत्न1997
पद्म श्री1999
विजडन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्ड2010, 1998
महाराष्ट्र भूषण2001
CC ODI टीम वर्ष का सर्वश्रेष्ठ2010, 2007, 2004
सर गारफील्ड सोबर्स ट्रॉफी2010
क्रिकेट के लिए अर्जुन पुरस्कार1994
BCCI पोली उमरीगर के लिए बीसीसीआई पुरस्कार – सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर – पुरुष2011
एलजी पीपुल्स च्वाइस अवार्ड2010
वर्ल्ड टेस्ट इलेवन2011, 2010, 2009
लॉरियस स्पोर्टिंग मोमेंट 2000-2020 अवॉर्ड2020
विजडन इंडिया आउटस्टैंडिंग अचीवमेंट अवार्ड2012
कैस्ट्रोल इंडियन क्रिकेटर ऑफ द ईयर2011
आउटस्टैंडिंग अचीवमेंट इन खेल2010
पीपुल्स च्वाइस अवार्ड2010

सचिन तेंदुलकर के नाम पर इतने रिकॉर्ड है, आज उनके रिकॉर्ड पर पूरी किताब लिखी जा सकती है। 1997 और 1998 में सचिन तेंदुलकर को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 1999 में इन्हे पदम श्री और 2008 में इन्हे पदम विभूषण से सम्मानित किया गया था।

यह पहले क्रिकेटर है जिनके सम्मान में भारतीय डाक विभाग ने 2013 में उनके नाम डाक टिकट जारी किया था। 2014 में इन्हे भारत के सबसे बड़े पुरस्कार भारत रत्न से सम्मनित किया गया था। और यह भारत रत्न पाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए थे। यह कपिल देव के बाद भारत में वर्ल्ड कप लाना चाहते थे। 2007 में यह वर्ल्ड कप हार गए। लोगो ने कहा अब तुम्हारा रिटायरमेंट का समय आ गया है। लेकिन सचिन लगे रहे और मेहनत करते रहे।

और 2011 में उन्होंने श्रीलंका को हराकर वर्ल्ड कप अपने नाम किया। और 23 दिसंबर 2012 को इन्होंने सन्यास की घोषणा कर दी थी। और 16 नवंबर 2013 को अपने घरेलू मैच बानखड़े स्टेडियम में अपना अंतिम टेस्ट मैच खेला। जिसे उनकी मां ने पहली बार सचिन को अपने सामने खेलते हुए देखा था। क्युकी उनकी मां ने कभी भी सचिन को सामने खेलते हुए नहीं देखा था उसके बाद से सचिन ने क्रिकेट का त्याग दिया।

सचिन तेंदुलकर की नेट वर्थ के बारे में

सचिन तेंदुलकर की नेट वर्थ 1240 करोड़ रूपए से अधिक है.

सचिन तेंदुलकर के सोशल मीडिया अकाउंट के बारे में

फेसबुक अकाउंटClick Here
ट्विटर अकाउंटClick Here
इंस्टाग्राम अकाउंटClick Here

सचिन तेंदुलकर कांटेक्ट डिटेल

फोन नंबर+91 63918466XX
व्हाट्सएप नंबर+91 63918466XX
ईमेल आईडीउपलब्ध नहीं है
हाउस एड्रेसमुंबई, भारत

About FAQ

Q. Sachin Tendulkar daughter?

Ans. Sachin Tendulkar’s daughter’s name is Sara Tendulkar.

Q. Sachin Tendulkar age?

Ans. Sachin Tendulkar’s age is 49 years as of 2022.

Q. Sachin Tendulkar wife?

Ans. Sachin Tendulkar’s wife’s name is Anjali Tendulkar.

Q. Sachin Tendulkar son?

Ans. Sachin Tendulkar’s son’s name is Arjun Tendulkar.

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है. आप सभी विजिटर को Sachin Tendulkar के बारे में पूरी जानकारी मिल ही गई होगी. यदि आप लोगो को कोई डाउट है. तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है. यदि आप लोगो को यह लेख अच्छा लगा है. तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Note : यह जानकारी विभिन्न वेबसाईट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गहराई से रिसर्च करके एकत्रित की गई है। यदि इस जानकारी में किसी भी प्रकार की त्रुटि पाई जाती है. तो इसके लिए bioknowledge.net की कोई भी जिम्मेदारी नहीं है।

VISIT WEBSITE
Rate this post

Earth Edition

Hello friends, This is Earth Edition Team. And we are professional content writers. We hope you guys liked this article. We have tried our best to give you complete information. If you still have any problems,...

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *